Advertisements
Share to your friends

गाँव की शायरी

हम ने अपनी गांव पे कुछ बेहतरीन शायरी लिखा हु आशा करता हु आपको पसंद आएगा |
गांव की याद किस को नहीं आता सब लोग गांव जाने के लिए गांव में रहने के लिए तड़पते है |
पर अब्सोस बहुत कम लोग होते है जो अपने पुरखो के जमीं पे अपना पूरा जिंदगी गुजार पाते है
सब लोग पैसे के लिए गांव छोड़ कर शहर में जाते है और शहर में ही बस जाते है |COVID-19 महामारी के बजसे आज बहुत लोग शहर में फस गए है और अपने गांव जाने के लिए तड़प रहे है आहा कुछ शायरी यषा है जो आपको जरूर गौ का याद दिलयेगा
अगर आपको पसंद आये तो जरूर शेयर करे |

Village Shayari

Village Shayari and Status

पुरखो का मकान बेच कर शहर न जाया करो
न जाने कब शहर छोड़ना पड़ जाये
गाँव में ही रहा करो 😥😥😥

Advertisements

Purakho ka makaan bech kar shahar na jaaya karo
Na jaane kab shahar chhodana pad jaaye
Gaanv mein hee raha karo

गाँव की शायरी

जिम्मेदारियां मजबूर कर देती हैं,
गाँव को छोड़ कर शहर आना पड़ता है
अपनों से दूर और गैरो के पास रहना पड़ता है 😥

Village Shayari & Status

village shayari

पाथर की माकान फीकी पार जते है
जब गाँव की मिति बाली घर याद आते है

Advertisements

Paathar kee maakaan pheekee paar jate hai
Jab gaanv kee miti baalee ghar yaad aate hai

corona shayari

गाँव का याद सब को फिर से आगया
सहर मैं जो कोरोना आगया

Gaanv ka yaad sab ko phir se aagaya
Sahar main jo korona aagaya

Best Village Shayari

जो पुरखों के जमीन बेच कर शहर में जाते है
जब शहर छोड़ना पड़ता है तो सब को गाँव याद आते है

Jo purakhon ke jameen bech kar shahar mein jaate hai
Jab shahar chhodana padata hai to sab ko gaanv yaad aate hai

village shayari

कितने सितम याये कितने गम आये
जब जब सहर से दिल टुटा है
गाँव की औ मिति बाली घर याद आये

kitane sitam yaaye kitane gam aaye
jab jab sahar se dil tuta hai
gaanv kee au miti baalee ghar yaad aaye

Good Night Shayari Love Shayari
Sad Shayari New Shayari 2020

शहर में लाखों का माकन है मेरा
फिर कु याद आता है
गाँव बाले घर का आँगन मेरा

गाँव की सड़क भी अब पकी होगई
देखते देखते
गाँव भी अब सहर होगई

Best Shayari गाँव pe

सहर से अब गाँव जाने का मन करता है.
पक्के घर छोड़ के
मिति के घर में रहने का मन करता है

Village Status

मेरे गाँव के जैसी ख़ुशी कहाँ मिलती है
रोज़ खाने को हवा यहाँ ताजी मिलती है
जहाँ देखू वहां हरयाली ही बस दिखती है
लहलहाते खेतों मैं गेहूं की बाली दिखती है

NEW VILLAGE SHAYARI HUM SHAHAR ME HI FAS GAYE

New village shayari images

ना जाने कितने साल बीत गए
ना जाने कितने दिन बीत गए
गाँव जाने की बहुत तमना थी
हम शहर में ही फस गए

Latest Shayari

Advertisements

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *