Advertisements

Village Shayari

गाँव की शायरी

We have written some wonderful shayari on our village, hope you will like it. Who does not remember the village, everyone is longing to stay in the village to go to the village. But there are very few people who live in their ancestors. They spend their whole lives. Everyone leaves the village for money and goes to the city and settles in the city itself. Today due to the COVID-19 epidemic, many people have been trapped in the city and are struggling to go to their village. Here is some poetry, which will definitely remind you of your village , if you like it then definitely share it.

हम ने अपनी गांव पे कुछ बेहतरीन शायरी लिखा हु आशा करता हु आपको पसंद आएगा|गांव की याद किस को नहीं आता सब लोग गांव जाने के लिए गांव में रहने के लिए तड़पते है|पर अब्सोस बहुत कम लोग होते है जो अपने पुरखो के जमीं पे अपना पूरा जिंदगी गुजार पाते है|सब लोग पैसे के लिए गांव छोड़ कर शहर में जाते है और शहर में ही बस जाते है |COVID-19 महामारी के बजसे आज बहुत लोग शहर में फस गए है और अपने गांव जाने के लिए तड़प रहे है आहा कुछ शायरी यषा है जो आपको जरूर गौ का याद दिलयेगा अगर आपको पसंद आये तो जरूर शेयर करे |

Advertisements
Good Night Shayari Love Shayari
Sad Shayari New Shayari 2021
village shayari

कैसे बताऊं गाँव क्या है ?

जहां सुकून मिलता है
जहाँ प्यार मिलता है
अपने गाँव को मैं कैसे बयां करू
गाँव औ है जहां इंसान को अपना पहचान मिलता है

jaha sukun milta hai
jaha pyaar milta hai
apne gaanv ko main kaise bayaan karu
gaanv ao hai jaha insaan ki apna pahechan milta hai

How to explain what is a village ?

Where is relaxed found
Where love is found
How do I define my village
Village is where man gets his identity

Advertisements
Village Shayari and Status

पुरखो का मकान बेच कर शहर न जाया करो
न जाने कब शहर छोड़ना पड़ जाये
गाँव में ही रहा करो 😥😥😥

Purakho ka makaan bech kar shahar na jaaya karo
Na jaane kab shahar chhodana pad jaaye
Gaanv mein hee raha karo

गाँव की शायरी

जिम्मेदारियां मजबूर कर देती हैं,
गाँव को छोड़ कर शहर आना पड़ता है
अपनों से दूर और गैरो के पास रहना पड़ता है 😥

Village Shayari & Status

village shayari

पाथर की माकान फीकी पार जते है
जब गाँव की मिति बाली घर याद आते है

Paathar kee maakaan pheekee paar jate hai
Jab gaanv kee miti baalee ghar yaad aate hai

corona shayari

गाँव का याद सब को फिर से आगया
सहर मैं जो कोरोना आगया

Gaanv ka yaad sab ko phir se aagaya
Sahar main jo korona aagaya

Best Village Shayari

जो पुरखों के जमीन बेच कर शहर में जाते है
जब शहर छोड़ना पड़ता है तो सब को गाँव याद आते है

Jo purakhon ke jameen bech kar shahar mein jaate hai
Jab shahar chhodana padata hai to sab ko gaanv yaad aate hai

village shayari

कितने सितम याये कितने गम आये
जब जब सहर से दिल टुटा है
गाँव की औ मिति बाली घर याद आये

kitane sitam yaaye kitane gam aaye
jab jab sahar se dil tuta hai
gaanv kee au miti baalee ghar yaad aaye

शहर में लाखों का माकन है मेरा
फिर कु याद आता है
गाँव बाले घर का आँगन मेरा

गाँव की सड़क भी अब पकी होगई
देखते देखते
गाँव भी अब सहर होगई

Best Shayari गाँव pe

सहर से अब गाँव जाने का मन करता है.
पक्के घर छोड़ के
मिति के घर में रहने का मन करता है

Village Status

मेरे गाँव के जैसी ख़ुशी कहाँ मिलती है
रोज़ खाने को हवा यहाँ ताजी मिलती है
जहाँ देखू वहां हरयाली ही बस दिखती है
लहलहाते खेतों मैं गेहूं की बाली दिखती है

NEW VILLAGE SHAYARI HUM SHAHAR ME HI FAS GAYE

New village shayari images

ना जाने कितने साल बीत गए
ना जाने कितने दिन बीत गए
गाँव जाने की बहुत तमना थी
हम शहर में ही फस गए

Village Love Shayari

Jis Din Tere bin reh lu.
usadin khud ko mita doonga.
mujh se door jaane kee baaten mat kar.
duniya mein aag laga doonga.

जिस दिन तेरे बिन रह लू |
उसदिन खुद को मिटा दूंगा |
मुझ से दूर जाने की बातें मत कर |
दुनिया में आग लगा दूंगा |

Kahne ko bahut kuch baki hai.
tere saath jindagee jeena baaki hai.
Khud ko kho ke paya hai tuje.
yahi baat tuje samajana baaki hai.

कहने को बहुत कुछ बाकी है |
तेरे साथ जिंदगी जीना बाकी है |
खुद को खो के पाया है तुझे |
यही बात तुजे समजना बाकी है |

jo waqt tere sath me bitate the.
aaj teri yaad me bitate hai.
ye mat samajna hum bhul gaye tumhe
fark sirf itna hai .
jo waqt hash ke bitate
aaj roke bitate hai.

जो वक़्त तेरे साथ में बिताते थे | आज तेरी याद में बिताते है |
ये मत समझना हम भूल गये तुम्हे | फर्क सिर्फ इतना है |
जो वक़्त हष के बीतते आज रोके बिताते है |

दिल में दर्द है |
थोड़ा हवा आने दो |
ज़ख़्म बहुत फैल गया है |
थोड़ादवा लाने दो |
जाओ कोई कह दे उसे |
हम मर रहे है |
कोई उसे आने दो |

आदत हमारी कुछ अशी है |
तुझे कुछ कह नहीं पाउँगा |
पर तू मुझसे दूर जाने की बातें मत कर |
तेरे बिना कैसे रह पाउँगा |

naaraaz dil ko mana loonga.
too mujhase kitana bhi dur ja.
tujhe main apana bana loonga.

नाराज़ दिल को मना लूंगा |
तू मुझसे कितना भी दुर जा |
तुझे मैं अपना बना लूंगा |

Mere Nazro ko tujse se door na kar.
muje abhi jeena hai
mar jaoonga tere bagair
bas yahi tujh se kahena hai.

मेरे नज़रो को तुजसे से दूर न कर |
मुझे अभी जीना है
मर जाऊंगा तेरे बगैर बस यही तुझ से कहा है |

Latest Shayari

Advertisements

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *